Is it possible to form a ener-matrix

WASHINGTON - APRIL 24:  (R-L) Kevin Book, seni...
Image by Getty Images via Daylife

We can be sure of this as a right time to evolve invisible anthropo-matrice to evolve minimum energy requirement with time curve so that we save our brain energy redefining the energy matrix. Comments are welcome.

Reblog this post [with Zemanta]
Advertisements

Sunshine-Dhoop

आँगन में समय जब बिताती है धूप, रोशन दीवारें तब छुपाती है धूप!
इन नक्शे चेहरों का क्या कहना, चेहरे से जब घूंगता उठाती है धूप!
चल के बदल जाएँ हव्वाओं के रुख, हवा से हवा जब मिलाती है धूप!
साहिल सुन ले तू इस राग को, नदी पर चमक गुनगुनाती है धूप!
बाबुल इसे तू डोली चरहा, तारों की छाओं मैं टिमटिमाती है धूप!
सौदागर इसे यूँ नीलाम कर, कभी तेरे ही काम आती है धूप!