We have initiated green Faridabad

Posted On November 25, 2008

Filed under Uncategorized
Tags: , , ,

Comments Dropped leave a response

We met for the 5th time. And the young ones really encouraged us. And this week: We’ll Create non-profit consulting groups for organizations. Approach various schools in Faridabad to create awareness in children. Finalize all formats by this month end.

Sunshine-Dhoop

आँगन में समय जब बिताती है धूप, रोशन दीवारें तब छुपाती है धूप!
इन नक्शे चेहरों का क्या कहना, चेहरे से जब घूंगता उठाती है धूप!
चल के बदल जाएँ हव्वाओं के रुख, हवा से हवा जब मिलाती है धूप!
साहिल सुन ले तू इस राग को, नदी पर चमक गुनगुनाती है धूप!
बाबुल इसे तू डोली चरहा, तारों की छाओं मैं टिमटिमाती है धूप!
सौदागर इसे यूँ नीलाम कर, कभी तेरे ही काम आती है धूप!